दुनिया के कई देशो के बाद भारत में भी तेजी से फैलते कोरोना वायरस का खौफ हर आम ओ ख़ास की जिंगदी पर दिख रहा है। मनोरंजन जगत पर भी इसका कहर जारी है। तमाम बॉलीवुड हॉलीवुड फिल्मो की रिलीज़ पोस्टपोन होने और देश के कई राज्यों में थिएटर्स में टेल लगने के बाद अब फिल्म और टीवी सेट्स पर सन्नाटा पसारने वाला है। दरअसल कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए सभी प्रकार की शूटिंग्स को १९ से ३१ मार्च तक के लिए रद्द करने का फैसला लिए गया है। यह फैसला फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज , इंडियन मोशंस पिक्चर्स प्रोडूसर्स एसोसिएशन , वेस्टर्न इंडिया फिल्म प्रोडूसर्स एसोसिएशन और गिल्ड के पदाधिकारी एवं ब्रॉडकास्टर्स की रविवार को हुई मीटिंग में लिया गया है। निर्माताओं को तीन दिन का समय दिया गया है, ताकि वे अपने जरुरी काम पूरा कर सके। साथ ही देश या विदेश कही भी शूटिंग कर रहे निर्माताओं को तीन दिन में अपने शूटिंग रोक कर टीम को वापस लेन का निर्देश दिए गए है।

जान से ज्यादा जरुरी नहीं काम

फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज के अध्यक्ष बी एन तिवारी बताते है, “हम सभी ने आपसी सहमति से १९ से ३१ मार्च तक सारी शूटिंग्स बंद करने का फैसला लिया है। जो लोग बहार शूटिंग कर रहे है। उन्हें बह वापस आने के लिए कहा गया है। क्योकि इस समय सबकी सुरक्षा एहतियात बरतना जरुरी है। काम बेशक महत्वपूर्ण है । लेकिन ज़िन्दगी से ज्यादा नहीं है। हमने सबको तीन दिन का टाइम दिया है, ताकि जो बहोत इम्पोर्टेन्ट काम है, वे पुरा कर सके। ” वही फेडरेशन के महासचिव अशोक दुबे का कहना है, “यह फैसला प्रोडूसर्स और वर्कर्स दोनों के हिट सोचकर लिया गया है। करीब ५ लाख वर्कर्स हमारे मेंबर है। जिनमे २५ से ३० हजार रोजाना कमाने खाने वाले है। प्रोडूसर्स का भी बड़ा पैसा लगा होता है, तो हम नहीं चाहते की किसी को नुकसान हो, लेकिन मौजूदा हालत में सबकी सुरक्षा सबसे ज्यादा अहम् है।” इस मीटिंग में बी एन तिवारी अशोक दुबे सहित फेडरेशन के मुख्य सलाहकार अशोक पंडित, इम्पा के अध्यक्ष टी पि अग्रवाल, आई एफ टी पि सी के जे दी मजीठिया, निर्माता टीनू वर्मा, प्रदीप सिंह, गिल्ड के पदाधिकारी आदि मौजूद थे।